मदहोश करने वाली चुदाई

"If you'd like to submit a paid guest post or sponsor a post on our website, please contact us at

4.2/5 - (6 votes)

नमस्कार पाठको, कैसे हैं आप सभी ? मैं यहाँ नई हूँ तो मुझे इस बारे में नही पता कि कहानी लिखते कैसे हैं ? आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है मेरे जीवन की सच्ची घटना है |

Build Your Dream Website Join Now
अपनी वेबसाइट बनाए Join Now

मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आयगी और आप लोगो को मेरी कहानी पढ़ कर बहुत मजा भी आने वाली है | मेरा नाम कोमल है और मैं मुंबई में रहती हूँ |

मेरी उम्र 27 साल है और मैं एक प्राइवेट फर्म में काम करती हूँ | वैसे मैंने यहाँ अकेले रूम ले कर रहती हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और थोड़ी मोटी हूँ | मेरा भरा बदन देख कर सभी के मन में ये ख्याल तो जरुर आता होगा कि काश ये एक बार मिल जाये तो इसके चोद दू | खैर मैं ऐसा सोचती हूँ कि लोग मेरे बारे में ऐसा सोचते हैं |

मेरे दूध भी बड़े हैं और मेरी गांड भी चौड़ी है | वैसे मैंने कई सारी कहानिया पढ़ी है और ये सब कहानिया पढ़ कर मुझे आज ऐसा लगा कि मैं भी क्यू ना आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखू |

तो अब मैं आप लोगो को ज्यादा नही पकाऊंगी और अपनी कहानी चालू करती हूँ | मैं जहाँ पर काम करती हूँ वहां मुझसे हर कोई दोस्ती करना चाहता है और मुझे देख कर हर कोई कुछ न कुछ रोज कमेंट करता है | मैं इस कंपनी में नयी हूँ इसलिए मैं किसी को भी कुछ नही बोलती और न ही किसी की शिकायत करती |

मेरी ही तरह मेरे स्कूल का एक फ्रेंड मेरे बाजू में एक ऑफिस है वहां काम करता है | हम दोनों के लंच का टाइम एक ही है और हम दोनों लंच के टाइम मिल कर साथ में ही लंच करते हैं | वो ही मुझे घर तक छोड़ता है | उसका नाम मनोज है और वो दिखने में सांवला है और पर उसकी कद काठी अच्छी है |

मैं उसे अपने ऑफिस में हुई सारी घटनाए बताती हूँ तो वो यही कहता कि अगर किसी ने कुछ किया तब बताना | पर किसी ने भी मेरे साथ सिवाय कमेंट के कुछ भी नही किया | मेरी और मनोज की दोस्ती प्यार में कब बदल गयी पता ही नही चला | अब मैं उसके साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताने लगी |

अब हम दोनों एक दूसरे को पहले से ज्यादा टाइम देने लगे | एक दिन की बात है मैं ऑफिस से निकल रही थी और तभी एक लड़के ने मुझे छेड़ते हुए मेरा हाँथ पकड़ लिया |

मनोज भी वही था और उसने ऐसा होते हुए देख लिया | तब उसने और उसके दोस्तों ने उस लकड़े को खूब पीटा | अब मैं निडर हो गयी थी कि इस अनजान शहर में मेरा साथ देने वाला कोई तो है | एक दिन मुझे मनोज ने मुझे सेक्स के लिए कहा |

मैंने उससे कहा कि यार मुझे सोचने के लिए टाइम चाहिए | तो उसने भी मुझे कभी परेशान नही किया | हांलाकि हम दोनों किस कर लेते थे और कभी कभी एक दूसरे को सहला भी लिया करते थे |

फिर एक दिन मैंने हाँ कर दिया तो वो मुझे अपने घर ले के गया और अपनों बांहों में भर लिया | मैंने भी उसे मना नही की और मैंने उसके होंठ में अपने होंठ रख दिए और उसके होंठ चूसने लगी |

वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूस रहा था और साथ ही साथ हम दोनों एक दूसरे को सहला भी रहे थे | जब मैं उसके किस कर रही थी तो उसके लंड को पेन्ट के ऊपर से मसल रही थी |

वो भी मुझे किस करते हुए मेरे दोनों दूध को मसल रहा था | फिर मैंने किस करते करते उसके शर्ट को उतार दिया और फिर बनियान | फिर उसकी छाती चूमते हुए नीचे घुटने के बल बैठ गयी |

अब मैंने उसके पेन्ट को उतारते हुए उसकी अंडरवियर भी उतार दी | उसका बड़ा और मोटा लंड मेरे चेहरे के सामने था तो मैंने उसके लंड को हिलाना चालू कर दिया और हिलाते हिलाते अपनी जीभ से चाटने लगी |

वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्करिया लेने लगा | मैं उसके लंड को हर तरफ से चाट कर गीला करने लगी |

जब उसका लंड अच्छे से तैयार हो गया तो मैंने उसे अपने मुंह में डाल लिया और आगे पीछे करते हुए चूसने लगी | वो भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह

आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए आन्हे भर रहा था | उसके लंड को चूसते हुए मैं उसके दोनों अन्टोलो को भी मुंह में ले कर चूस रही थी |

उसके बाद उसने मुझे खड़ा किया और मेरी शर्ट को उतार कर ब्रा के ऊपर से ही मेरे दोनों दूध को जोर जोर से मसलने लगा तो मेरे मुंह से भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्करिया निकलने लगी |

मेरी ब्रा को उतरने के बाद उसने मेरे दोनों दूध को जोर जोर से मसलते हुए बारी बारी चूसना शुरू कर दिया और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह

ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसके सिर के बालो को सहलाने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था और साथ साथ में निप्पलस को भी बड़े प्यार से अपने होंठ से दबाते हुए खींच कर चूस रहा था |

मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह

आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया ले रही थी और उतने में ही मेरी चूत गीली हो गयी थी | मेरे दोनों दूध को अच्छे से चूसने के बाद उसने मुझे पलंग पर लेटा दिया और मेरी स्कर्ट उतार कर मेरी पेंटी भी उतार दिया |

अब हम दोनों ही एक दूसरे के सामने नंगे थे | उसने मेरे पैरो को फैला दिया और मेरी चूत में अपनी जीभ रख कर रगड़ते हुए चाटने लगा | मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मदहोश हुई जा रही थी |

वो मेरी चूत को चाटते हुए उसके अन्दर ऊँगली डाल कर अन्दर बाहर करने लगा तो मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह

अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए एक बार झड़ गयी | वो मेरी चूत की झिल्ली को भी बड़े प्यार से होंठ में दबा कर चूस रहा था और ऊँगली से चोद भी रहा था

मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह

आअहाआअ करते हुए बस सिस्कारिया लिए जा रही थी | फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत मैंने रगड़ने लगा और फिर धीरे धीरे अन्दर डालने लगा | जब उसका लंड मेरी चूत में पूरा चला गया तो उसने धक्के मारते हुए चोदना शुरू कर दिया और मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ

अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसे उत्तेजित करने लगी |

फिर उसने अपनी चुदाई कि स्पीड बढ़ा दिया और जोर जोर से धक्के मारते हुए चोदने लगा | मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ

आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड उठा उठा कर चुदवा रही थी | मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब उसका लंड मेरी बच्चेदानी को छु रहा था | मैं बहुत ही ज्यादा मदहोश हो गयी थी | फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरे पीछे आ कर अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया |

अब वो मेरी कमर पकड़ कर जोर जोर से धक्के मारते हुए चोदने लगा और मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए

अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए चुदवा रही थी | उसकी चुदाई ने मुझे इतना ज्यादा मदहोश कर दिया था कि मैं फिर से एक बार और झड़ गयी पर वो अभी तक एक बार भी नही झड़ा और जोर जोर से धक्के मारते हुए मुझे चोद रहा था और मैं भी रंडी की तरह अपनी चूत चुदाई का मजा ले रही थी |

फिर करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरी चूत में ही झड़ गया |

Leave a comment