पड़ोस के बच्चे से अपनी हवस मिटाई

Rate this post

मेरा नाम रजनीगंधा है और मैं 36 साल की जवान महिला हूँ

मेरा बदन एक दम गदराया हुआ है और मेरे दूध काफी भरे हैं और और मेरी गांड भी बड़े बड़े हैं | मेरे पति सॉफ्टवेर इंजीनियर हैं और वो मुंबई में जॉब करते हैं |

मैं अकेले इस घर में रहती हूँ अपने सास ससुर के साथ | मेरे सास ससुर बहुत बीमार रहते हैं तो मैं उनकी देखभाल करती हूँ, मेरे एक भी बच्चे नहीं हैं और मेरी चूत हमेशा प्यासी रहती हैं

क्यूंकि मेरे पति महीने में 2 बार ही घर आते हैं और कुछ दिन रुक कर फिर चले जाते हैं | मैं खुश नहीं हूँ | इसलिए मैंने एक बच्चे से अपनी चुदाई करवाती हूँ | ये मैं आपको कहानी में बताउंगी |

ये बात 3 महीने पहले की है, मेरे पति तीन महीनो से घर नही आए थे और मैं अपनी चूत में भटा, मूली, या लौकी डालके अपनी चूत की चुदाई करती थी | पर मेरा मन तो एक लंड से चुदने का होता था और लंड की चुदाई बहुत हसीन होती है | जब चूत को लंड का चस्का लगता है तो चूत सिर्फ लंड ही मांगती है, और यही हाल मेरा भी था

मुझे लंड चाहिए था पर मिल नहीं रहा था | मैं बाहर किसी से अफेयर भी नहीं चला सकती थी क्यूंकि इससे मेरी और मेरे घर वालो की बदनामी होती अगर पकड़े जाते तो |

इसलिए मैं यही सब सोच कर अपनी अन्तर्वासना खोते जा रही थी | मेरे पति ने ब्लू फिल्म की सीडी ला कर दी हैं बहुत सारी जिसको देख देख कर मैं रोज रात को अपनी चूत में ऊँगली डाल कर शांत करती थी |

मैं लंड की आस में ब्लू फिल्म में ही लंड देख कर मन में सोचने लगती थी की काश मुझे कोई लंड खाने को मिल जाये | चूत का पानी निकाल कर मैं फिर सो जाती थी बड़ी मुश्किल से क्यूंकि मुझे ठीक से नींद नही आती थी |

एक दिन की बात है मैंने सपना देखा था कि मैं छत में टहल रही थी | तो मैंने देखा कि एक लड़का मेरे घर के पीछे मूत रहा था और मैं उसका लंड देख रही थी उसका लंड बहुत बड़ा था करीब 9 इंच लम्बा होगा उसका लंड |

फिर वो मुझे अपना लंड दिखा दिखा कर मूतने लगा तो मैंने उसे इशारा करके अपने घर बुलाया और फिर जब वो मेरे घर के अन्दर आया तो मैं अपने सास ससुर के सामने ही उसे किस करने लगी | फिर वो मेरे मेरे कपडे उतर के नंगा कर दिया और मैंने भी उसे नंगा कर दिया और फिर नीचे बैठ के उसका बड़ा लंड पीने लगी |

वो अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म कर रहा था |

फिर वो मेरे दूध पीने लगा और मैं अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म करने लगी थी |

वो मेरे दूध पीने के बाद मेरी चूत चाटने लगा तब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था | वो बहुत अच्छे से मेरी चूत चाट रहा था और मैं अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म कर रही थी |

फिर उसने मेरी गांड चाटना चालू कर दिया और वो मेरी गांड के छेद को चाट रहा था और ऊँगली कर रहा था और मेरे मुंह से तो बस अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा

ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म की आवाज़े निकल रही थी | मेरी चुदाई होने ही वाली थी कि मेरा सपना टूट गया और मैंने उठ के देखा तो मैं नंगी पड़ी हूँ और मेरी चूत में से मेरी ज्वाला निकल रही थी |

मुझे सपना बहुत अच्छा लग रहा था पर नींद खुलते ही मुझे बुरा लगने लगा और मैं उदास हो गयी थी |

मैं ऐसे ही काम कर रही थी की मेरी नजर खेलते हुए बच्चे पर पड़ी वो बहुत क्यूट सा बच्चा था और उसकी उम्र 18 साल के आस पास थी | मुझे पता नहीं मेरे मन में क्या हुआ कि

मैं उस बच्चे की ही धुन में समां गई और उससे चुदाई के सपने देखने लगी | अब मुझे वो बच्चा किसी भी कीमत में चाहिए था | मैं उस बच्चे को रोज देखने लगी और अन्दर ही अन्दर उससे चुदाई के सपने सजाने लगी |

फिर एक दिन शाम को वो लोग क्रिकेट खेल रहे थे तो उनकी बॉल मेरे घर में आ गई थी | तो वो दरवाजा खटखटाने लगा तो मैंने दरवाजा खोला और पूछा कि क्या हुआ बेटा क्या चाहिए यो उसने कहा आंटी मेरी बॉल यहाँ आ गई है वो चाहिए | तो वो छत की तरफ जाने लगा पर उसे बॉल नहीं मिल रही थी |

तो मैं भी उसकी मदद करने लगी बॉल ढूंढें में पर वो मुझे भी नजर नहीं आ रही थी फिर मैंने उसे अपने पास बुलाया और मैंने कहा बेटा कल तुम सुबह आ कर ले जाना तो उसने कहा ठीक है | फिर मैं अगले दिन उसके आने का इंतज़ार करने लगी थी क्यूंकि उस दिन मेरा घर खाली था मेरे सास ससुर डॉक्टर के पास गए थे  |

फिर वो बच्चा आया और बोला कि बॉल तो नहीं मिली पर मैं तुम्हे दूसरी बॉल दे सकती हूँ पर तुम वो किसी को बताना मत ठीक है तो उसने कहा ठीक है नहीं बताऊंगा | और मैं उसे अन्दर ले के आ गई थी और फिर मैंने उसके हाँथ पकड़ के अपने दूध में रख दिया और वो मेरे दूध दबाने लगा |

मैं अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म का रही थी | उसे ये सब करना बहुत अच्छा लग रहा था और मुझे भी |

फिर मैंने अपनी साडी उतारी और ब्लाउज उतारा और फिर धीरे धीरे नंगे हो कर खड़ी हो गई उसके सामने | वो मुझे देखता ही रह गया था वो शायद पहली बार किसी को ऐसे देख रहा था फिर मैंने उसके कपडे उतारे उसको नंगा किया तो मैं दंग रह गई की इतनी छोटी उम्र का लड़का और 7 इंच का लंड |

फिर मैं उसका लंड चाटने लगी और वो अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म कर रहा था |

मैं समझ गई थी वो चुदाई के लिए तैयार हो रहा है और मैं इस तैयार कर दूंगी कुछ समय में | फिर मैं उसका लंड चाटने के बाद चूसने लगी तो वो अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म कर कर के मेरे मुंह में ही झड़ गया था |

और मैं उसका वीर्य सारा सारा पी गई थी फिर वो थक गया था तो मैंने उसे अपने दूध पीने को कहा | तो वो मेरे दूध किसी छोटे बच्चे की तरह पी रहा था और मेरे मुंह से सिकरिया निकला रही थी अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म 20 मिनट तक

उसने मेरे दूध पिए थे | फिर उसने मेरी चूत चाटना चालू कर दिया था और वो मेरी गीली चूत को बड़े मजे ले ले कर चाट रहा था | मेरी चूत के दाने को होंठो से पकड के चूस रहा था और मैं अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह

उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म करके सिस्कारिया भरते जा रही थी | 15 मिनट तक उसने मेरी चूत चाटी थी और मैं एक अब झड़ चुकी थी उसके मुंह में और वो भी मेरी चूत के रस को मजे से पी गया था |

फिर मैंने उसे खड़ा किया और फिर से उसका लंड खड़ा करने लगी चूस चूस कर | वो फिर से अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ

उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म ककरे सिस्कारियां ले रहा था | जब उसका लंड चुदाई के लिए सख्त हो गया था तब मैं उसके लंड पे बैठ कर उचकने लगी थी और अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म कर रही थी |

मुझे बड़े दिनों बाद लंड मिल रहा था इसलिए मैं पूरे मजे लेना चाहती थी | फिर मैं लेट गयी और वो मेरे ऊपर आ कर मुझे चोदने लगा और मैं अहहाह्हहाह्हहा अहहहह्हहाह आह्हाहहहा

अहहाहहहाहा आहाहह्हाहा ऊउन्न्ह ऊऊम्म्म्ह उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहहहः उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह अहहहहः अहहहाआ हाहहाआअ अहाअहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊऊन्न्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म करके उसे किस कर रही थी | फिर वो मेरी चूत में ही झड गया था |

अब मैं उससे जब भी मौका मिलता तो चुदवा लेती थी और अपनी चूत की प्यास उससे बुझाती थी

फिर उसने अपने एक और दोस्त को इस बारे में बता दिया था तो मैंने फिर उससे भी चुदवाना बंद कर दिया था अब मैं किसी और लंड की तलाश कर रही हूँ | दोस्तों मेरी इस कहानी पर अपनी राय देना मत भूलियेगा |

2 thoughts on “पड़ोस के बच्चे से अपनी हवस मिटाई”

  1. Maharashtra me kisi girl, bhabhi, aunty, badi ourat ya kisi vidhava ko maze karni ho to connect my whatsapp number 7058516117 only ladies

    Reply

Leave a comment