अनजान सड़क, अनजान लड़की और अन्तर्वासना

"If you'd like to submit a paid guest post or sponsor a post on our website, please contact us at

Rate this post

हैल्लो फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करता हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | मेरा नाम शाश्वत है और मैं जबलपुर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 24 साल है और मैं दिखने में गोरा हूँ |

Build Your Dream Website Join Now
अपनी वेबसाइट बनाए Join Now

मैं फिलहाल में सिकंदराबाद में आर्मी में जॉब करता हूँ | मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है और मेरा शरीर फिट है | मेरा लंड का साइज़ 6 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा है ( खुद से नापा हुआ साइज़ ) | दोस्तों फ्री हिंदी सेक्स स्टोरीज के बारे में मुझे मेरे एक दोस्त ने बताया था जो कि अभी मेरे साथ पोस्टिंग में हैं |

मैं फ्री टाइम में अक्सर चुदाई की कहानियां पढता हूँ और मुझे भी कोई लेटेस्ट कहानियां आती है तो मैं बहुत शौख से पढता हूँ | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश का रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है

और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | ये बात करीब 2 साल पुरानी है | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आयगी | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय ना लेते हुए अपनी कहानी पर आता हूँ |

दोस्तों मैं शुरू से चूत का भूखा भूत रहा हूँ | जब से मैंने एक भाभी को पटा कर चोदा है, तब से मैं चूत की तलाश में घूमता रहता हूँ | एक बार की बात है मैं स्कूल के काम से जा रहा था कि मुइहे दोपहर करीब 2.40 पे एक लड़की मिली | वो स्कूल में ही पढ़ती थी उस वक़्त | वो दिखने में मोटी थी और उसका चेहरा साफ़ था |

मतलब हम आसान भाषा में गेंहुआ रंग बोल सकते हैं | मैं जब वहां से निकल रहा था तब वहां एक पुल पड़ता है वहीँ पर वो लड़की मुझे मिली | उसने मुझे रोका और मुझसे लिफ्ट देने के लिए कहा |

मुझे भी ये सुनहरा अवसर लगा तो मैंने तुरंत ही अपनी गाड़ी रोक दिया | उसने मुझसे कहा कि क्या आप मुझे सदर तक छोड़ सकते हो ? तो मैंने कहा कि यार मुझे थोडा काम है तो मैं तुम्हे सिविल लाइन तक छोड़ सकता हूँ |

तो उसने कहा कि फिर थोडा ही आगे डिलाइट पड़ता है वहां पर तुम मुझे छोड़ दो | तो मैंने कहा ठीक है | फिर वो मेरी गाडी में पीछे आ कर बैठ गई | अब हम वहां से निकलने ही थे कि उसने मेरा नाम पूछा तो मैंने उसे अपना नाम शाश्वत बताया | तो फिर मेरे पूछने पर उसका नाम आशिता बताया | मैंने कहा कि यार तुम्हारा नाम तो बहुत प्यारा है

तो उसने थैंक यू में जवाब दिया | कुछ देर चलने के बाद उसने मुझसे पूछा कि तुम रात में कितने बजे तक घुमते हो ? तो मैंने कहा यार मैं 10 बजे तक घर चले जाता हूँ वैसे तुमने ये क्यूँ पूछा ? तो फिर उसने बताया कि उसके पापा नाईट में जॉब करते हैं कंपनी में और घर में बस वो और मम्मी ही रहती हैं | जब उसकी मम्मी सो जाती हैं

तब वो मौका देख कर रात में घूमने निकल जाती है | ये बात मैं सुन कर चौंक गया कि यार मैं लड़का हो कर इतनी बड़ी हरकत कभी नहीं किया और ये लड़की हो कर इतना बड़ा रिस्क ऐसे ही ले लेती है |

उसने मुझसे कहा कि आज रात में कार ले कर आपके घर आउंगी तो आप मुझे मिल जाना | फिर हम घुमने चलेंगे | मैंने उसे बहुत मना किया तो उसे बुरा लग गया | चलते चलते मुझे पता ही नहीं चला कि कब हम सदर पंहुच गए | उसने मुझसे मेरा नंबर मांगा और कहा कि मैं फ्री हो कर कॉल करुँगी | मैंने कहा ओके !

फिर मैं अपना काम कर के अपने घर आ गया | मैं वेट कर रहा था उसके कॉल आने का पर नहीं आया | मैंने सोचा कि इस लड़की ने मुझे चूरन दे दिया है | फिर मैंने सोचा कि चलो हटाओ | करीब रात के 9 बजे उसका काल आया | मैंने कॉल रिसीव किया | उसने मुझसे सीधा कहा कहाँ हो तुम ? तो मैंने कहा कि यार मैं घर में हूँ |

तो उसने कहा कि रात को 12 बजे मुझे कम्युनिटी हॉल के पास मिलना | तो मैंने उसे कह तो दिया कि ठीक है मिल जाऊँगा लेकिन मेरा मन बिलकुल भी नही था | जैसे तैसे रात होती चली गई और 11.30 बजे उसका कॉल आया

कि हम वहां पंहुच गए हैं आ जाओ तुम भी | मैंने चौंकते हुए पूछा कि कौन हम लोग ? तो उसने कहा मैं हूँ और मेरे चार दोस्त हैं जिनमे से हम तीन लड़कियां और दो लड़के हैं | मैंने कहा चल ठीक आता हूँ  |

जब मैं वहां पंहुचा तो सच में वो लोग पांच लोग ही थे | उस समय मैंने एक लोअर और एक टी-शर्ट पहना हुआ था | उसने मेरा सभी से परिचय कराया और मुझे भी उनसे मिलवाया | पर मैं उनके सब के साथ कम्फ़र्टेबल फील नहीं कर रहा था | हम परीयट घूमने घुमने गए | बाकि दो लड़कियों के दो बॉयफ्रेंड भी थे उनके साथ |

पर आशिता और मैं सिंगल ही थे | वो सब एक दूसरे को किस कर रहे थे और यहाँ वहां हाँथ से सहला रहे थे | ये देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया | उसे भी वो सब देख कर कुछ कुछ होने लगा था ऐसा मुझे लग रहा था | फिर हम दोनों एक खाली जगह पर पंहुचे | वहां पर बहुत अच्छी और ठंडी हवाएं चल रही थी |

उसने मुझसे पूछा कि क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है ? तो मैंने कहा नहीं यार मुझे कोई ऐसी कोई लड़की मिली ही नहीं जो मुझसे प्यार करे ( अब सच तो मुझे पता था ) | फिर मैंने पूछा कि तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है क्या ?

तो उसने कहा कि नहीं मुझे भी कोई ऐसा नहीं मिला जो मुझे प्यार करे | कुछ देर ऐसी ही यहाँ वहां की बात करने के बाद उसने मुझे आई लव यू कह दिया तो मैंने भी तुरंत आई लव यू टू कह कर उसे गले से लगा लिया |

कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद हम दोनों की साँसे गरम होने लगी और दोनों तरफ चुदाई की आग बरसने लगी | हम दोनों की आँख एक दुसरे के प्यार को टटोल रही थी | फिर मौका ना गंवाते हुए मैंने उसके होंठ में किस कर दिया | उसका विरोध ना पा कर मैंने फिर से उसे किस किया और वो भी मेरा साथ किस्सिंग में देने लगी |

करीब 10 मिनट तक किस करने के बाद उसने मेरे हाँथ को अपने दूध में रख दी और मैं उसका इशारा समझ गया और उसके दूध को जोर जोर से मसलने लगा तो उसके मुंह से आहा औऊन्न्ह ऊउम्म्ह उआआअ ऊउन्न्ह आहाआआ ऊम्म्म्ह ऊउन्न्ह आहाआअ ऊउन्न्ह की आवाज़े निकलने लगी | मैं समझ गया कि उसे भी मजा रहा है

तो मैंने उसके टॉप को उतार कर ब्रा को भी ऊपर खिसका दिया और उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर मसलते हुए चूसने लगा तो वो आहा औऊन्न्ह ऊउम्म्ह उआआअ ऊउन्न्ह आहाआआ ऊम्म्म्ह ऊउन्न्ह आहाआअ ऊउन्न्ह करते हुए मेरे चेहरे को सहलाने लगी | मैं जोर जोर से उसके दूध को दबा दबा कर चूस रहा था

और वो भी आहा औऊन्न्ह ऊउम्म्ह उआआअ ऊउन्न्ह आहाआआ ऊम्म्म्ह ऊउन्न्ह आहाआअ ऊउन्न्ह करते हुए सिस्कारिया ले रही थी | फिर उसने मेरे लोअर और अंडरवियर को साथ में खिसका कर नीचे कर दी और मेरा खड़ा लंड देख कर कहा कि तुम्हारा लंड बहुत मस्त है |

उसके बाद उसने नीचे झुक कर मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर जीभ से चाटने लगी और अन्दर गले तक डाल कर चूसने लगी | मुझे बहुत अच्छा लग रहा था तो मेरे मुंह से भी आहा औऊन्न्ह ऊउम्म्ह उआआअ ऊउन्न्ह आहाआआ ऊम्म्म्ह ऊउन्न्ह आहाआअ ऊउन्न्ह की सिस्करियाँ निकलने लगी |

वो बहुत अच्छे से मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर चूस रही थी और होंठो में रगड़ रही थी | जब उसने मेरे लंड को चूसना बंद किया तो मैंने तुरन्त ही उसके जीन्स और पेंटी को उतार दिया और उसकी गीली चूत में अपना लंड रगड़ते हुए अन्दर डाल दिया | चूत गीली थी तो लंड आसानी से चला गया और मैं शॉट मारते हुए उसे चोदने लगा तो

वो आहा औऊन्न्ह ऊउम्म्ह उआआअ ऊउन्न्ह आहाआआ ऊम्म्म्ह ऊउन्न्ह आहाआअ ऊउन्न्ह करते हुए मेरी कमर में अपना पैर लपेट ली | फिर मैंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा कर जोर जोर से चोदन चालू किया

और वो भी आहा औऊन्न्ह ऊउम्म्ह उआआअ ऊउन्न्ह आहाआआ ऊम्म्म्ह ऊउन्न्ह आहाआअ ऊउन्न्ह करते हुए चुदाई में साथ देने लगी | करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद उसके चूत के ऊपर मैंने अपना माल निकाल दिया |

फिर हम सब अपने अपने घर चले गए वहां से | उसने सभी को घर छोड़ा था | उसके बाद ना वो लड़की का कॉल लगा ना ही उसका कॉल आया |

Leave a comment