चोर ने चूत में मची हलचल को शांत किया

"If you'd like to submit a paid guest post or sponsor a post on our website, please contact us at

4.2/5 - (4 votes)

 हाय दोस्तों कैसे हो ? मुझे उम्मीद है की आप सभी लोग ठीक ही होगे | दोस्तों मैं भी आप लोगो की तरह सेक्सी कहानी और सेक्सी मूवी देखना पसंद करती हूँ |

Build Your Dream Website Join Now
अपनी वेबसाइट बनाए Join Now

मैं अभी तक बहुत सारी कहानियाँ और विडियो देख कर उनके मज़े ले चुकी हूँ और आज मैं अपनी कहानी लेकर आई हूँ | मैं आज जो कहानी आप लोगो के सामने पेश करने जा रही हूँ

इस कहानी में मैं आप लोगो को बताउंगी की कैसे मैंने एक चोर से अपनी चूत में मची हलचल को शांत कराया था | दोस्तों मैं कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देती हूँ |

मेरा नाम सोनी है और मैं रहने वाली एक बड़े शहर की हूँ | मेरी उम्र 29 साल है और मैं दिखने में कमसीम जवान हूँ | दोस्तों मेरे फिगर देखकर किसी की नियत खराब हो गए | मैं आप सभी लोगो को अपने फिगर के बारे में बता देती हूँ |

मेरे बड़े बड़े बूब्स है जोकि हमेशा ऊपर की और उठे रहते हैं साथ में मेरी गांड जो काफी बड़ी और सेक्सी है जिसको देखकर किसी की भी नियत ख़राब हो जाये | दोस्तों मेरी शादी हो चुकी हैं और मेरे पति को मेरी गांड बहुत पसंद है |

मेरे पति मेरी जब चुदाई करते हैं तो मेरी गांड में अपनी लंड को जरुर घुमाते है जिससे मेरी गांड का छेद बड़ा हो चूका है और मैं अब अपनी गांड भी मरवाने में मज़े लेती हूँ | मैं अब ज्यादा टाइम न लेती हुई सीधे कहानी को शुरू करती हूँ और आप सभी लोग मेरी कहानी को पढ़कर मज़े ली जिए |

दोस्तों ये कहानी उस टाइम की है जब मेरे पति काम की वजह से पुरे पुरे महीने बाहर रहते थे और मैं उन दिनों लंड के लिए तरसती रहती थी | मैं उन दिनों यही सोच सोच कर रात काट लिया करती थी की किसी दिन जब मेरी पति आएँगे तो मेरी चूत और गांड में लंड को डाल कर खूब मज़े देंगे |

दोस्तों एक दिन की बात है जब मैं अपने घर थी और उस दिन मेरे मन में बहुत सेक्सी ख्याल आ रहे थे | मैं उस दिन अपने मन में सोच रही थी की अगर आज के दिन मुझे कोई भी लंड मिल जाये तो मैं उसे अपनी चुत में ले लुंगी और पुरे दिन मस्ती करुँगी | मैं उस दिन ये सब बाते सोच रही थी जिससे मेरी चूत गीली हो गयी थी |

फिर मैं अपने आप से बोली क्या सोनी तू भी कैसे कैसे ख्याल मन में ला रहती है और अपना काम करने लगी | मैं उस दिन अपना का करने के बाद आराम करने लगी | मैं आराम करती हुई सो गयी और जब सो कर उठी तो शाम हो गयी थी |

तब मैं अपने रात के खाने का इंतजाम करने लगी और खाना बनाने लगी | मैंने उस दिन बहुत जल्दी ही खाना तैयार क्या लिया था और खाने खाने के बाद लेट गयी थी | दोस्तों उस रात मेरे मन में अजीब ख्याल आ रहे थे

तो मैंने अपना फ़ोन उठाया और सेक्सी मूवी देखने लगी | मैं जब सेक्सी मूवी देखने लगी तो मेरे अंदर सेक्स की आग लग रही थी और मेरी चूत में हलचल होने लगी थी | मैं उस रात अपने आप में नही थी तो मैंने अपने कपडे निकाल दिए

फिर फ़ोन को अपने सामने रख दिया और अपनी ब्रा को खोल दिया और अपने एक दूध को दबाती हुई अपने मुंह में रख लिया और चूसने लगी | मैं अपने एक स्तन को मुंह में रख कर चूस रही थी और दुसरे वाले को दबा रही थी | मैं अपने दोनों स्तनों को ऐसे ही 5 मिनट तक चूसती रही जिससे मैं पूरी तरह से गर्म हो गयी थी |

मैंने तब अपनी पैंटी को निकाल दिया और अपनी चूत में थूक लगाकर अपनी चूत में ऊँगली करने लगी | दोस्तों में अपनी चूत में जोर जोर से उँगलियों को घुसा कर हिलाने लगी और मज़े लेने लगी |

मैं जब अपनी चूत में उँगलियों को अन्दर बाहर कर रही थी तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | मैं अपनी चूत में उगलियों को ऐसे ही कुछ देर तक करती रही

दोस्तों तभी मुझे ऐसा लग की कोई मेरे में घुसा हुआ है तो मैं बिना कोई आवाज किये हुए उस आहत की और बढ़ी | मैं जब उसके पास पहुची तो मुझे ऐसा लगा की कोई आदमी है और मैंने उसे पीछे के कस के पकड लिया |

मैंने जब उस आदमी को पकड लिए तो वो मुझसे अपने आप को छुड़ाने की कोशिश करने लगा पर मैंने उस कस के पकड रक्खा था जिसकी वजह से वो नही छुट पाया |

फिर मैंने उसे पकड कर कमरे में बंद कर दिया और कमरे की लाइट चालू की | दोस्तों क्या मस्त हट्टा कट्टा था | उसको देखने के बाद मेरे मन में ख्याल आ गया की अगर ये मुझे खुश कर देता है तो मैं इसे छोड़ दूंगी और अगर इसने मुझे खुश ही किया तो मैं इसे पकड़ा दूंगी |

दोस्तों वो मुझे बिना कपड़ो के देखकर घुर रहा था जिससे उसका लंड पैंट को ऊपर की और चढ़ा रहा था | मैं समझ गयी थी की ये मेरे सेक्सी जिस्म को देखकर पागल हो चूका है |

मैं –  तुमको मेरा ही घर चोरी करने के लिए मिला था |

वो मुझसे बोला की मैडम मुझे छोड़ दो मैं आज के बाद कभी चोरी नही करूँगा |

तब मैंने उससे कहा की हर चोर पकडे जाने पर यही कहता है पर मैं तुम्हे छोड़ दूंगी अगर तू मेरा एक काम कर दो ?

वो चोर मुझसे बोला बताओ कोई भी काम होगा मैं करूंगा | मैं बोली यार तुम मेरी मचलती चूत को शांत कर दो और चले जाओ और अगर तुम ऐसा नही कर पाए तो मैं तुम्हे पकड़ा दूंगी |

वो – ठीक है और अपने कपडे निकाल दिए फिर मुझे पकड कर बिस्तर पर लेट गया और मुझे चूमने लगा | वो मेरे पुरे जिस्म को चूम रहा था साथ में अपने हल्के हाथ से पुरे जिस्म को टच कर रहा था जिससे मेरे अन्दर और भी कस के आग लग गयी थी | वो मेरे जिस्म को ऐसे ही कुछ देर तक करता रहा |

फिर उसने मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर चूसने लगा और मैं उसकी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगी | ये चूमने चाटने का खेल पुरे 10 मिनट तक चलता रहा |

फिर उसने मुझे पकड कर नीचे की और खीच लिया और मेरी चूत में अपनी उँगलियों को घुसा कर हिलाने लगा जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | मैंने तब उससे कहा की मेरी चूत को चाटो और वो मेरी चूत को चाटने लगा तो मैं आह आह उई माई औच उह आह… की आवाजे करती हुई मज़े लेने लगी थी |

वो मेरी चूत को जोर जोर से चाट रहा था | मैं बिस्तर को कस के पकड कर आह उह उई माई औच आह उई माँ… की सेक्सी आवाजे करती हुई मजे ले रही थी |

ये सब पुरे 8 मिनट तक चलता रहा जिससे मेरी चूत का पानी निकाल गया था | फिर उसने अपने लंड को मेरे हाथो में पकडा दिया और मैं उसके लंड को हाथ में पकड कर हिलाती हुई मुंह में रख लिया | मैं उसके लंड को मुंह में रख कर चूसने लगी और वो अपने लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से चूसाने लगा |

मैं उसके लंड को ऐसे ही कुछ देर तक चूसती रही | फिर उसने अपने लंड को मेरे मुंह से निकाल लिया और मेरी टांगो को पकड कर मेरी चूत में धीरे से घुसा दिया |

दोस्तों उसका लंड जैसे ही मेरी चूत में घुसा तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मैं आह उह औच की सिसकियाँ लेने लगी | वो मुझे पकड कर मेरी चूत में धक्के मारने लगा और मैं मज़े लेती हुई चुदने लगी |

दोस्तों वो मुझे पकड कर अपनी और खीच लिया और फिर मेरी चूत में धक्को की स्पीड तेज कर दी और जोरदार धक्को के साथ मुझे चोदने लगा |

मैं उसके धक्को के मज़े लेती हुई चुदाई के मज़े ले रही थी और आह आह उई माई माँ उई माँ औच आह उई… की सिसकियाँ पर सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरी आवाजो को सुनकर जोश में आ रहा था और धक्को की स्पीड तेज करते जा रहा था जिससे कुछ ही देर में मेरी चूत से फच फच की आवाजे आने लगी थी |

फिर उसने मेरी चूत से लंड को निकाल लिया और मुझे अपने लंड पर बैठा लिया | मैं उसके लंड पर बैठ कर ऊपर नीचे होती हुई चुदने लगा और चुदाई के मज़े लेने लगी |

मैं उसके लंड पर बैठ कर चुद रही थी और वो मुझे अपने हाथो में पकड कर जोरदार धक्को के साथ चोदने लगा | मैं मस्त होकर चुद रही थी और वो मुझे चोद रहा था |

उसने मुझे फिर अपने हाथो में उठा लिया और खड़ा हो गया और मेरी चूत में उठा उठा कर धक्के मारने लगा |  मैं मस्त धक्को के मे लेती हुई चुद रही थी | वो मुझे ऐसे ही जोरदर धक्को के साथ पुरे 15 मिनट तक चोदता रहा और मैं उस 15 मिनट में 2 बार झड़ चुकी थी | दोस्तों उस रात उसने मेरी चूत में होने वाली हलचल को शांत कर दिया था |

फिर मैंने उसे छोड़ दिया और वो चला गया | उस दिन के बाद मुझे जब चुदने के मन होता था तो मैं उसे बुला लिया करती थी और वो मुझे चोद कर खुश कर देता था |

ये थी मेरी कहानी | मुझे उम्मीद है की आप लोगो को मरी कहानी पसंद आई होगी ? धन्यवाद……….

Leave a comment