बहन को चुदवाने की मजबूरी भाग १

"If you'd like to submit a paid guest post or sponsor a post on our website, please contact us at

4.8/5 - (6 votes)

Bahan ko chudwane ki majburi part 1 : हैल्लो दोस्तों, ये स्टोरी मेरी और मेरी बहन की है।

Build Your Dream Website Join Now
अपनी वेबसाइट बनाए Join Now

मेरी बहन दिखने में बहुत सुंदर है और उसका नाम रितु है और उसकी हाईट 5 फुट 11 इंच और वो बिल्कुल दीपिका पादुकोण जैसी लगती है। मेरे एक गर्लफ्रेंड भी है और उसका नाम दीपशिखा है।

दीपशिखा मेरी बहन की सबसे अच्छी दोस्त है और वो दोनों कॉलेज में एक ही क्लास में है। मेरी बहन बहुत हॉट है और उसका फेस और बॉडी बहुत सुंदर है। कॉलेज के सारे लड़के उस पर मरते है

और उनमें से मेरे कुछ दोस्त भी मेरी गर्लफ्रेंड और मेरी बहन को देखकर कमेंट करते रहते है। एक दिन में टॉयलेट में पेशाब करने गया था, तो बाहर कुछ लड़के-लडकियाँ बात कर रहे थे। उनमें मेरी गर्लफ्रेंड और मेरी बहन भी थी।

फिर उनके जाने के बाद उनमें से एक लड़का बोला कि तुमने उन लड़कियों को देखा, जो अभी मिली थी, साली कमाल की थी ना, उन दोनों के बूब्स कमाल के थे। फ़िर उनमें से एक लड़के ने कहा कि मुझे तो छोटी वाली मस्त लगी, साली की गांड बड़ी मस्त थी, कहाँ रहती है? पता लगाना पड़ेगा। अब में ये सब सुन रहा था।

फिर एक लड़का बोला कि वो छोटी वाली तो रितु है, वो बी.कॉम कर रही है और वो बड़ी वाली दीपा है। में तो रोजाना इन दोनों के नाम की मुठ मारता हूँ। फिर वो चले गये, लेकिन अब मेरा दिमाग खराब हो गया था

और अब में भी रितु के बारे में सोचने लगा था।फिर कुछ दिन के बाद एक खबर सुनने में मिली कि मेरी बहन रितु का किसी के साथ चक्कर है। अब में सोचने लगा कि ये बात कहीं सच तो नहीं है।

फिर मैंने पता लगाया तो पता चला कि चेतन नाम का एक लड़का रितु के पीछे लगा हुआ है, वो लड़का गुंडागर्दी में था तो मैंने भी कुछ नहीं कहा। फिर मैंने रितु से ही पूछा कि क्या ये सच है?

तो वो बोली कि नहीं भाई वो ऐसे ही मुझे परेशान करता रहता है। फिर मैंने रितु से कुछ नहीं कहा। फिर कुछ दिन के बाद चेतन मुझसे मिला और ऐसे ही बातें करने लगा। फिर एक दिन वो बोला कि मुझे तेरी बहन से दोस्ती करनी है,

तो में कुछ नहीं बोला और वहाँ से चला गया। फिर अगले दिन वो मुझे फिर से मिला और मुझसे कहने लगा कि प्लीज मेरी तेरी बहन से सेटिंग करा दे, तो मैंने कहा कि में ये सब नहीं कर सकता। फिर उसने मुझे देखा और कहा कि आराम से कह रहा हूँ तो तू समझ ही नहीं रहा और उसने मुझे धक्का मार दिया।

फिर उसके साथ के लड़को ने उसे रोका और मुझे उठाया और चेतन ने मुझसे रितु के फोन नंबर माँगे, तो मैंने उसे नंबर दे दिए। अब वो रोज़ रितु को फोन करता और परेशान करता। फिर एक रात को उसका फोन मेरे पास आया और उसने मुझे छत पर आने को कहा तो में छत गया और मैंने देखा कि वो हमारी ही छत पर था।

फिर उसने मुझसे कहा कि तेरी बहन की याद आ रही थी, तो मैंने उसे समझाया, लेकिन उसने मुझे एक थप्पड़ मारा और कहा कि साले साला है तो साला ही रह और चल नीचे। अब में डर गया था, लेकिन वो मेरे साथ ही नीचे आ गया, ज़ब सब सो रहे थे। फिर उसने मुझसे रितु का कमरा पूछा और रितु के रूम की तरफ जाने लगा,

तो मैंने उसे रोका, लेकिन वो नहीं माना। जब रितु टी.वी. देख रही थी। फिर चेतन ने रितु को खिड़की से देखा और चला गया। फिर अगले दिन वो मुझे कॉलेज में मिला और मुझे एक कागज में कुछ दिया

और कहा कि रात को रितु के दूध में उसे दे दूँ, तो मैंने उसे मना किया, लेकिन वो नहीं माना। फिर मैंने रात को वैसा ही किया और रितु के दूध में वो मिला दिया। फिर थोड़ी देर में चेतन भी आ गया और खिड़की में से देखने लगा।

अब रितु टी.वी. देखते हुए अपनी आँखे बंद कर रही थी। फिर चेतन उसके रूम में चला गया। अब मुझे लगा कि रितु सबको चिल्ला कर जगा देगी, लेकिन वो कुछ नहीं बोली।

फिर चेतन उसके पास गया और टी.वी. बंद कर दी और रितु के साईड में बैठ गया और अब मेरा दिल ज़ोर-जोर से धड़क रहा था कि अब क्या होगा?फिर चेतन ने रितु की कमर में हाथ डाला और उसे अपनी तरफ़ खींच लिया,

तो फिर रितु दीदी एकदम से होश में आई और वो चेतन से बोली कि तुम कौन हो? तो चेतन ने कहा कि में तुम्हारा राजा हूँ और तुम्हें अपनी रानी बनाने आया हूँ।

फिर रितु चुप हो गई और उसकी तरफ देखन लगी और बोली कि तुम वही चेतन हो ना, तुम यहाँ से बाहर जाओ। अब मुझे लगा कि अब चेतन का भांडा फूटेगा, लेकिन रितु के शोर करने से पहले ही उसने रितु के मुँह को दबा लिया। अब रितु उससे छूटने की कोशिश कर रही थी, लेकिन छूट नहीं पा रही थी।

तभी चेतन ने रितु के होंठो को अपने होंठो से दबा लिया और अब ये देखकर मेरे पूरे बदन में अजीब सा करंट दौड़ पड़ा। अब रितु के मुँह से एम्म की आवाज़ आ रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद रितु दीदी ने ज़ोर लगाना बंद कर दिया और वो शांत हो गई। अब चेतन रितु के ऊपर लेटकर आराम से उसके होंठो को चूस रहा था।

अब दीदी की आँखे बंद थी और वो भी चेतन के होंठो को चूस रही थी। अब में ये सब देखकर बड़ा हैरान था और साथ ही साथ मुझे अजीब सा भी लग रहा था।फिर मैंने देखा कि अब जब चेतन रितु के ऊपर लेटा हुआ था, तो रितु दीदी के बूब्स चेतन की छाती से दबे हुए थे और चेतन की पूरी बॉडी मेरी दीदी की बॉडी के ऊपर थी।

अब चेतन मजे से उसके होंठो को चूस रहा था। अब ये सब देखकर मेरा भी लंड खड़ा हो गया था। फिर चेतन ने अपना मुँह दीदी के होंठो से हटाया और उसने गले को चूमने लगा और इस वक्त रितु पूरे मजे ले रही थी।

अब वो पूरे नशे में थी। फिर धीरे-धीरे चेतन रितु के गले से नीचे उसके बूब्स पर पहुँचा और दीदी के बूब्स बड़े-बड़े थे, दीदी का फिगर 37-30-36 था। अब चेतन दीदी की टी-शर्ट के ऊपर से ही उसके बूब्स को अपने मुँह से दबा रहा था। अब वो दीदी की टी-शर्ट के ऊपर से ही रितु के बूब्स को अपने मुँह में लेता और काट भी लेता था।

1 thought on “बहन को चुदवाने की मजबूरी भाग १”

Leave a comment